STUDENT

विद्यार्थियों के लिए सामान्य नियम :-

इस महाविद्यालय को जो यश प्राप्त हुआ है उसका कारण विद्यार्थियों का सदाचार एवं उत्तम परीक्षाफल ही रहे हैं किसी संस्था की प्रगति, कीर्ति एवं सुव्यवस्था विद्यार्थियों के निश्चित नियमों एवं परम्पराओं का पालन करने पर ही निर्भर करती है।
विद्यार्थियों की सहायता एवं निर्देश के लिए निम्नलिखित नियम हैं-
1. विद्यार्थी अपनी साइकिल ,स्कूटर, मोटर साइकिल आदि को साइकिल स्टैण्ड पर रखें। महाविद्यालय परिसर मे अन्य स्थान पर वाहन रखना वर्जित है।
2. विद्यार्थियों को बरामदों में घूमना वर्जित है। कक्षाओं के चलते समय कक्षाओं के भीतर अथवा बाहर किसी प्रकार की
बाधा उत्पन्न नहीं करनी चाहिए।

3. महाविद्यालय की सम्पत्ति को, जो कि विद्यार्थियों की ही सम्पत्ति है, हानि नहीं पहुँचानी चाहिए । दीवारों पर पोस्टर चिपकाना अथवा लिखना निषिद्धि है। महाविद्यालय की दीवारों एवं कोनों आदि में पीक करना या थूकना मना है।

4. गुरुजनों, कर्मचारियों एवं एक दूसरे का आदर करना चाहिए। महाविद्यालय के भीतर और बाहर साधारणतः ऐसा व्यवहार करना चाहिए जिससे कि अपने माता-पिता तथा संस्था के नाम को ऊँचा उठा सकें।

5. उच्च कक्षाओं के विद्यार्थियों को छोटी कक्षाओं के विद्यार्थियों द्वारा महाविद्यालय की सम्पत्ति को हानि पहुँचाते या इमारतों को खराब करते देख कर ऐसा न करने की शिक्षा देनी चाहिए। यह तभी हो सकेगा जब स्वयं वे भी इसका पालन करें।

6. स्वास्थ्य एवं सर्वांगीण विकास के लिये महाविद्यालय में उपलब्ध क्रीड़ा-स्थल, व्यायामशाला, पुस्तकालय, प्रयोगशालाओं जैसी सुविधाओं का पूरा लाभ उठाना चाहिए।

7. रेल तथा बस से यात्रा करने वाले विद्यार्थियों को मासिक रेलवे कन्सेशन फार्म महाविद्यालय कार्यालय के काउन्टर नं0 8 पर उपलब्ध होगा। रेलवे कन्सेशन के प्रभारी डाॅ0 हेमंत कुमार रीडर, भूगोल विभाग है।

8. विद्यार्थियों को परीक्षाएँ गभ्भीरता पूर्वक देनी चाहिए। उन्हे यह अच्छी तरह जान लेना चाहिए कि किसी परीक्षा में सम्मिलित न होने पर उनकी पुनः परीक्षा नहीं होगी।
9. ऐसा व्यक्ति जिसका महाविद्यालय में प्रवेश नहीं है, कक्षा में नहीं बैठ सकता है।

10. विद्यार्थियों को महाविद्यालय द्वारा भुगतान चैक द्वारा किया जायेगा। चैक खो जाने पर 6 माह पश्चात् दूसरा चैक आवश्यक कार्यवाही के उपरान्त ही दिया जा सकेगा।

11. अनुशासन एवं व्यवस्था संबंधी विषयों में प्राचार्य का निर्णय अन्तिम होगा।

परिचय पत्र
शुल्क जमा करने के पश्चात स्नातक भाग एक/स्नातकोत्तर पूर्वार्द्ध अथवा महाविद्यालय में प्रथम बार प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों को शुल्क लिपिक द्वारा शुल्क जमा करने की रसीद दिखाने पर नवीन परिचय पत्र दिया जायेगा। अन्य विद्यार्थी गत् वर्ष दिये गये परिचय पत्र का नवीनीकरण इस सत्र में करायेंगे। अनुशासनाध्यक्ष की संस्तुति आवश्यक है। इस नवीन परिचय पत्र के खो जाने की स्थिति में शुल्क काउन्टर पर रु0 50/- देकर प्राप्त किया जा सकता है। पुराना परिचय-पत्र जीर्ण हो जाने की स्थिति में नवीन परिचय पत्र शुल्क काउन्टर पर रु0 20/- देकर प्राप्त किया जा सकता है। इसके लिए जाँचोपरान्त अनुशासनाध्यक्ष की संस्तुति आवश्यक है। फर्जी परिचय पत्र बनवाने वाले को दण्डित किया जायेगा। डुप्लिकेट परिचय पत्र देने का अधिकार चीफ प्राॅक्टर को होगा। महाविद्यालय परिसर में परिचय पत्र रखना अनिवार्य है। महाविद्यालय कार्यालय से कोई भी भुगतान बिना परिचय पत्र के नहीं होगा।

पुस्तकालय एवं वाचनालय
1. महाविद्यालय का पुस्तकालय सुसम्पन्न एवं उपयोगी पुस्तकों से परिपूर्ण है तथा वाचनालय में अनेक दैनिक पत्र एवं पत्रिकायें उपलब्ध रहती हैं। महाविद्यालय में बुक बैंक की भी व्यवस्था है। विद्यार्थी इसके सदस्य बनकर इस योजना से लाभान्वित हो सकते हैं। महाविद्यालय से सीमित पुस्तकें ही मिल सकेंगी। परीक्षा प्रारम्भ होने से पूर्व विद्यार्थियों को पुस्तकें वापिस करनी होंगी अथवा पुस्तकों के लिये मूल्य प्रतिभूति के रूप में जमा करना होगा।
2. प्रतिभूति राशि अगले सत्र् की 31 जुलाई तक वापिस ले लेनी चाहिये।

शुल्कमुक्ति,छात्र-वृत्तियाँ,पदक आदि
निर्धन एवं योग्य विद्यार्थियां के लिए निःशुल्क एवं अर्द्धशुल्क मुक्ति आवेदन करने पर स्वीकृत की जाती हैं। अनुसूचित जाति/अनुसूचित जन जाति के विद्यार्थियों को छात्र्-वृत्तियाँ शासकीय नियमानुसार प्रदान की जाती हैं। विद्यार्थियों को महाविद्यालय में प्रवेश लेने के 15 दिन के अन्दर अपना छात्र-वृत्ति आवेदन पत्र जमा करना अनिवार्य है। निश्चित समयावधि में अपनी छात्र्-वृत्ति सम्बन्धी प्रक्रिया पूर्ण न कर पाने पर होने वाली सभी प्रकार की कठिनाई या छात्र्-वृत्ति से वंचित रह जाने का समस्त उत्तरदायित्व विद्यार्थी का स्वयं का होगा।

अनुसूचितजाति/अनुसूचितजन जाति के विद्यार्थियों के लिये छात्र्-वृत्ति हेतु सामान्य नियम
1.    आय सीमा
(अ) अनु0 जाति: अभिभावक की आय 2,00,000/- वार्षिक तक पूर्ण छात्र्ावृत्ति व पूर्ण अनावृत्ति सहायता। (ब) पिछड़ी जाति:- अभिभावक की वार्षिक आय अधिकतम 2,00,000/- तक की शासन के नियमानुसार (स) सामान्य जाति:- अभिभावक की वार्षिक आय अधिकतम 2,00,000/- तक को शासन के नियमानुसार

2.    आय प्रमाण-पत्र जो तहसीलदार/सक्षम अधिकारी द्वारा प्रदत्त हो, मान्य होगा।

3.    अन्तिम उत्तीर्ण कक्षा की अंकतालिका की प्रमाणित तथा स्वहस्ताक्षरित छाया प्रति होगी।

4. नये प्रवेश लेने वाले अनुसूचित जाति/जनजाति एवम् पिछड़े वर्ग के विद्यार्थी अपना बचत बैंक खाता ओरिएन्टल बैंक आॅफ कामर्स, चन्दौसी में खोलेंगें।

5. यदि अन्तिम परीक्षा व प्रवेश कक्षा के मध्य कोई समय अन्तराल है तो इस आशय का नोटरी द्वारा अभिप्रमाणित शपथ पत्र संलग्न करना अनिवार्य है।

6. विद्यार्थियों को छात्र-वृत्ति हेतु आवेदन पत्र् जमा करते समय बैंक पास बुक साथ लाना व आवेदन पत्र् पर खाता संख्या अंकित किया जाना अनिवार्य है।

‘‘यदि विद्यार्थी महाविद्यालय में अनियमित या अनुपस्थित रहता है या किसी शिक्षक या कर्मचारी से अभद व्यवहार करता है या किसी ऐेसे कार्य में सहयोग करता है जो महाविद्यालय के नियम व गरिमा के विरूद्ध हो या छात्र-वृत्ति प्राप्त करने के लिए कोई अनुचित दबाव डालता है तो उसके विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही की जायेगी (शासकीय निर्देशानुसार परिवर्तनीय) ।’’

7- अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के विद्यार्थी छात्रवृत्ति आवेदन पत्र के साथ अपने मूल निवास प्रमाण पत्र एवं जाति प्रमाण पत्र की सत्यापित छाया प्रति अनिवार्य रूप से संलग्न करेंगे ।

8. अनु0 जाति के छात्र/छा़त्रों से अपेक्षा की जाती है कि वह अपना छात्र-वृत्ति आवेदन पत्र् जमा करने के उपरान्त निरन्तर नोटिस बोर्ड देखते रहें व सम्बन्घिंत काउन्टर से सम्पर्क बनायें रखे ताकि उनके आवेदन पत्रो में किसी भी त्रु्टि का निस्तारण शीघ्र किया जा सके।

9. विकलाँग छात्र/छा़त्रों या विकलाँग माता-पिता के बच्चों को छात्र-वृत्ति विभाग द्वारा स्वीकृत होने पर वितरित की जायेगी।

अन्य सुविधा

विश्वविद्यालय स्तर पर खेल में चयनित, एन0 सी0 सी0, एन0 एस0 एस0 के श्रेष्ठ विद्यार्थियों को शुल्क मुक्ति,निःशुल्क पुस्तकें, पी0 बी0 एफ0 छात्र-वृत्ति प्रदान की जायेंगी। महाविद्यालय द्वारा प्रदत्तअन्य छात्र-वृत्तियाँ योग्य एवं अच्छे आचरण वाले विद्यार्थियों को निम्नलिखित छात्र-वृत्तियाँ दी जाती हैं:
(महाविद्यालय की छात्र-वृत्तियाँ प्राप्त करने के लिए विद्यार्थियों को विश्वविद्यालय की सम्पूर्ण परीक्षा में सम्मिलित होना अनिवार्य है अन्यथा उन्हें छात्र-वृत्ति की धनराशि वापिस करनी होगी।)

1. एस0 एम0 काॅलेज, चन्दौसी के मकानों व दुकानों के किराये से प्रतिवर्ष उन दो प्रतिभाशाली संस्थागत विद्यार्थियों को छात्र-वृत्ति प्रदान की जायेंगी, जिन्होंने स्नातकोत्तर उत्तरार्द्ध परीक्षाओं में सर्वोच्च अंक प्राप्त किये हों। सर्वोच्च अंक पाने वाले विद्यार्थियों को रु0 600/- तथा द्वितीय सर्वोच्च अंक पाने वाले विद्यार्थी को रु0 400/- की छात्र्-वृत्ति प्रदान की जायेगी।

2. स्व0 प्रो0 एस0 एन0 बिसारिया स्मारक छात्र्-वृत्ति:- हमारे महाद्यिालय के राजनीति शास्त्र्ा विभाग के भू0 पू0 अध्यक्ष प्रो0 एस0 एन0 बिसारिया की स्मृति में उनकी धर्मपत्नी द्वारा प्रदत्त निम्नलिखित छात्र्-वृत्तियाँ प्रदान की जाती हैं
(अ) बी0 ए0 द्वितीय वर्ष में राजनीति शास्त्र् विषय में संस्थागत विद्यार्थी के रूप में सर्वाधिक अंक प्राप्त कर बी0 ए0 तृतीय वर्ष में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थी को रु0 150/-
(ब) एम0 ए0 पूर्वार्द्ध राजनीति शास्त्र् विषय में संस्थागत विद्यार्थी के रूप में सर्वाधिक अंक प्राप्त कर एम0 ए0 उत्तरार्द्ध कक्षा में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थी को रु0 200/-

3. श्री हरिवंश सिंह सिसौदिया स्मारक छात्र्-वृत्ति:- इस महाविद्यालय के पूर्व छात्र् डाॅ0 समर सिंह सिसौदिया (निवासी हाथरस) की ओर से अपने पूज्य पिता स्व0 हरवंश सिंह सिसौदिया की स्मृति में प्रतिवर्ष 1000 रु0 की छात्र्-वृत्ति ऐसे विद्यार्थी को दी जायेगी जिसने गत वर्ष इण्टरमीडिएट परीक्षा में सर्वाधिक अंक प्राप्त कर इस महाविद्यालय में बी0ए0/बी0एस-सी0/बी0काॅम0 प्रथम वर्ष में प्रवेश लिया हो।

4. गत वर्ष से महाविद्यालय के पूर्व छात्र् एवं अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त हिन्दी कवि डा0 कुँअर बेचैन की ओर से अपने पूज्य स्व0 श्री जंग बहादुर सक्सैना तथा स्व0 श्री राय बहादुर सक्सैना की स्मृति में एम0ए0 पुर्वार्द्ध/उत्तरार्द्ध हिन्दी में संस्थागत विद्यार्थी के रूप में सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाले को प्रति वर्ष स्वर्ण पदक प्रदान किया जाता है।

5. स्व0 श्रीमती राम किशोरी स्मृति छात्र्-वृत्ति-महाविद्यालय के रसायन विज्ञान विभाग, प्रभारी डा0 एस0 के0 अग्रवाल द्वारा अपनी पूज्य माताजी स्व0 श्रीमती राम किशोरी धर्मपत्नी स्व0 श्री रामकुमार अग्रवाल की स्मृति में बी0 एस0 सी0 प्रथम में सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थी को प्रदान की जायेगी।
प्रमुखप्रोत्साहनपदक

विश्वविद्यालय की विभिन्न परीक्षाओं में इस महाविद्यालय के संस्थागत विद्यार्थी के रूप में प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को महाविद्यालय द्वारा स्वर्ण पदक प्रति वर्ष प्रदान किये जाते हैं।

 नेशनल कैडेट कोर
महाविद्यालय में एन0सी0सी0 की शिक्षा का भी समुचित प्रबन्ध है। स्नातक कक्षा में विद्यार्थी स्वेच्छा से एन0सी0सी0 में सम्मिलित हो सकते हैं, परन्तु जो भी सम्मिलित होंगे, उन्हें परेड्स में उपस्थिति सम्बन्धी अन्य नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा। विद्यार्थियों का एन0 सी0 सी0 के लिए चयन किया जाता है।

राष्ट्रीयसेवायोजना(एन0एस0एस0)
महाविद्यालय में राष्ट्रीय सेवा योजना छैैर्द्ध की दो इकाईयाँ हैं। स्नातक कक्षा के विद्यार्थी इसके सदस्य बनकर रचनात्मक सामाजिक कार्यों द्वारा देश के उत्थान हेतु योगदान दे सकते हैं।

खेलकूद
महाविद्यालय में सभी प्रमुख खेल जैसे- कबड्डी, खो-खो, एथलेटिक्स, हाॅकी, फुटबाल, वालीबाॅल, क्रिकेट, बैडमिन्टन, टेबिल टेनिस आदि होते हैं। क्रीड़ाधीक्षक एवं अन्य शिक्षक बन्धुओं के सहयोग से सभी खेल सुचारू रूप से सम्पन्न होते हैं

अनुशासनपरिषद
महाविद्यालय में अनुशासन सम्बन्धी समस्याओं के निदान हेतु एक अनुशासन परिषद का गठन किया जाता है जिसको चीफ प्राॅक्टर, प्राॅक्टरों एवं अन्य शिक्षकों के सहयोग से सुचारू रूप से चलाया जाता है। परिचय-पत्र् अनुशासन परिषद के सदस्यों द्वारा ही बनाये जाते हैं। परिचय पत्र खो जाने की अवस्था में दूसरा परिचय-पत्र चीफ प्राॅक्टर की लिखित अनुमति के उपरान्त ही प्राप्त किया जा सकता है।

अनुशासनमण्डल केनियम
1. विद्यार्थियों से मिलने वाले आगन्तुकों को चाहिए कि वे सम्बन्धित विद्यार्थियों से सीधे न मिलकर चीफ प्राॅक्टर से सम्पर्क स्थापित करें।

2. विद्यार्थियों को अपना परिचय-पत्र् सदैव अपने साथ रखना चाहिए। परिचय-पत्र् न होने की दशा में विद्यार्थियों को दण्डित किया जा सकता है।

3. बरामदों में अनावश्यक न घूमें। प्राचार्य-कक्ष के आस-पास चक्कर लगाना, बिना किसी प्रयोजन के प्राचार्य-कक्ष में प्रवेश करना पूर्णतः अनुशासनहीनता है। अनावश्यक घूमने की अवस्था में अनुशासनात्मक कार्यवाही की जायेगी।

4. छा़त्रों को चाहिए कि वह अपना खाली समय वाचनालय में पत्र-पत्रिकायें को पढ़कर व्यतीत करें।

5. छा़त्राओं को चाहिए कि वह अपना खाली समय छात्र् कक्ष में पत्र-पत्रिकायें पढ़कर व्यतीत करें।

6. महाविद्यालय की दीवारों पर कुछ न लिखें। लिखने वालों को महाविद्यालय से निष्कासित किया जा सकता है।

7. महाविद्यालय परिसर में धूम्रपान तथा गुटखा, तम्बाकू या अन्य कोई नशीले पदार्थ का प्रयोग पूर्णयता वर्जित है।

8.    आपसी मतभेदों को दूर करने के लिये अनुशासन मण्डल से सम्पर्क करें।

9. प्राचार्य एवं चीफ प्राॅक्टर की पूर्व आज्ञा के बिना महाविद्यालय परिसर में प्रचारात्मक साहित्य प्रसारित करने वाले के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाती है।

10. किसी भी प्रकार का हथियार छात्र/छात्रा द्वारा काॅलेज में लाना वर्जित है। इस नियम को तोड़ने पर अनुशासनात्मक व कानूनी कार्यवाही की जायेगी।

11.    सरकारी आदेशों के अनुसार कक्षा मे मोबाइल फोन रखना पूर्णतः वर्जित है।

12. अनुशासन में रहकर व्यक्ति महान बनता है। महाविद्यालय में सुचारू रूप से शिक्षण कार्य के लिए अनुशासन बनाये रखना आपका कर्तव्य है।

वाहन स्थल

महाविद्यालय में विद्यार्थियों की सुविधा के लिये वाहन-स्थल का समुचित प्रबन्ध है। वाहनों की देखरेख ठेकेदार द्वारा की जाती है। विद्यार्थी तथा महाविद्यालय का समस्त स्टाफ अपने वाहन वाहन-स्थल पर ही रखते हैं। वाहन-स्थल से वाहन की चोरी होने पर जिम्मेदारी केवल ठेकेदार की होती है। चोरी होने वाले वाहन की कीमत ठेकेदार से वसूल की जाती हैं।

एन0ए0ए0सी0 (छात्र) से सम्बन्धित समितियाँ

राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन् परिषद् के निर्देशानुसार महाविद्यालय में अध्ययन, अध्यापन, छात्र-कल्याण एवं प्रगति हेतु शिक्षकों की विभिन्न समितियाँ कार्यरत हैं। उक्त समितियों के संयोजक व सदस्य परिषद की आकांक्षाओं के अनुरूप कार्य कर रहे हैं।
महाविद्यालय विकास एवं छात्र सम्बन्धित समितियाँ सत्र 2014-15

छात्र/छात्राओं के लिए अति आवश्यक निर्देश्

1. प्रत्येक छात्र/छात्रा की 75% उपस्थिति अनिवार्य है। 75% उपस्थिति न होने पर विश्वविद्यालय द्वारा परीक्षा सन् 2015 से वंचित किया जा सकता है।

2. महाविद्यालय परिसर में किसी भी प्रकार का नशीला पदार्थ, गुटका, तम्बाकू आदि का सेवन तथा धूम्रपान पूर्णतः वर्जित है। यदि कोई छात्र/छात्रा इसका प्रयोग करते पाए जाते हैं तो उनके खिलाफ कड़ी अनुशासनात्मक कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी।

3.   राज्य प्रशासन एवं सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार महाविद्यालय परिसर एवं छात्रावास में किसी भी प्रकार की रैगिंग पूर्णतः प्रतिबन्धित है। ऐसा करते पकड़े जाने पर छात्र को दण्डित कर महाविद्यालय से निष्कासित कर दिया जायेगा।

4.   महाविद्यालय परिसर में परिचय-पत्र रखना अनिवार्य है। माँगे जाने पर परिचय पत्र दिखाना आवश्यक है।

5.   महाविद्यालय शुल्क जमा करने की रसीद विभाग के प्रभारी को दिखाकर विद्यार्थी अपना नाम  छात्र  उपस्थिति    पंजिका  में  अवश्य  लिखा  दें।  कक्षाओ में नाम न लिखाने वाले विद्यार्थियों को विश्वविद्यालय परीक्षा सन् 2015 से वचिंत किया  जा सकता है।

6.   अनुसूचित  जाति,  अनुसूचित  जनजाति,  अन्य  पिछड़ा  वर्ग  एवं  निर्धन  छात्र/छात्रा सितम्बर सन् 2014  में  छात्रवृत्ति  आवेदन  पत्र  अवश्य  भर  दें।  आवेदन  पत्र  समय  से जमा नहीं करने का उत्तरदायित्व छात्र का स्वयं का होगा।

7.   अन्य शैक्षणिक तिथियाँ विश्वविद्यालय द्वारा घोषित कैलेन्डर के अनुसार होंगी।

8.   परीक्षा-आवेदन पत्र  को  भरकर  कार्यालय  में  यथासमय  जमा  करना  विद्यार्थी  का स्वयं  का  दायित्व  है।  कोई  भी  कठिनाई  होने  पर  फार्म  जमा    करने  की  रसीद दिखाना  अनिवार्य  है।  परीक्षा-आवेदन  पूर्ण  करके  महाविद्यालय    के  कार्यालय  में जमा करने का सम्भावित माह सितम्बर सन् 2014 है।

9.   महाविद्यालय की विभिन्न महत्वपूर्ण सूचनाओं की जानकारी हेतु प्रत्येक  विद्यार्थी महाविद्यालय का सूचना-पट अनिवार्य रूप से देखेगा।

10.    महाविद्यालय  में  अनुशासन  हीनता  फैलाने  अथवा  अन्य  अवांछित  गतिविधियों  में भाग लेने वाले छात्र/छात्राओं को महाविद्यालय से निष्कासित कर दिया जायेगा।

11.    छात्र/छात्राओं  को  निर्देशित  किया  जाता  है  कि  महाविद्यालय  परिसर  में    मोबाइल फोन का उपयोग प्रतिबन्धित है

12.    छात्राओं  से  अपेक्षा  है  कि  वो  महाविद्यालय  परिसर  में  कुर्ता  एवं  सलवार  जैसी सामान्य ड्रेस पहन कर आयें।